Corona के लक्षण क्या हैं और उससे कैसे बचें

0
89

कोरोना को लेकर पिछले 2 महीने से चीन में और अब पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुहा है ईरान से लेकर इटली तक इंडियन से लेकर अमेरिका तक अब तो भारत में भी कोरोना दाकिल हो चुखा है

कोरोना वायरस 166 देशो तक पहुँच गया है पूरी दुनिया में 2 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके है और 8 हजार 600 से भी ज्यादा लोगो की मौत हो चुकी है वायरस का संक्रमण का दायरा लगातार बढ़ रहा है इस बीच एक दूसरे से दूरी बढ़ाने को वायरस के मुकाबले सबसे कारगर तरीका बताये जा रहा है

कोरोना वायरस का संक्रमित का दायरा भारत में भी तेजी से बड़ रहा है इससे लेकर कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने देश के लोगो को सम्बोदित किया प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने कोरोना वायरस ऐसा संकट बताया जिसे पूरी मानव जाति को संकट में डाल दिया प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी ने खा है कि महामारी का मुकाबला करने के लिए संकल्प और संयम की जरूरत है PM ने आने वाले 15 अप्रैल तक Lockdown कर दिया है

कोरोना वायरस उन लोगों के शरीर से अधिक फैलता है जिनमें इसके संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं। लेकिन कई जानकार मानते हैं। कि व्यक्ति को बीमार करने से पहले भी ये वायरस फैल सकता है ब्रीमारी के शुरुआती लक्षण सर्दी और फ्लू जैसे ही होते हैं जिससे कोई
आसानी से भ्रमित हो सकता है।

Coronavirus के लक्षणः-

Coronavirus के लक्षण शुरूआत में सामान्य फ्लू की तरह ही होते हैं इसमें बुखार, नाक बहना, सांस लेने में तकलीफ और गले खरास जैसी परेशानियां होने लगती हैं इस वायरस में आपको लगातार खांसी आती रहती है. इसके अलावा संक्रमण गंभीर स्तर पर होने पर नि्मोनिया और गुर्दे से जुड़ी बीमारियां होने लगती हैं

कोरोना से मुकाबला:-

Coronavirus से निपटने के लिए फिलहाल दुनिया में कोई भी टीका या दवा मौजूद नहीं हैं. लेकिन WHO और स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी इन बातों पर ध्यान दंगे तो बचाव किया जा सकता है. लगातार गबुन और साफ पानी से हाथ धोएं. बुखार, जुकाम आदि जैसे रोगों
से भी संक्रमित व्यक्ति से 1 मीटर की दूरी अवश्य बना कर रखें

कोरोना वायरस ज़्यादातर मामलों में एक-दूसरे को छूने से फैलता है. कोरोना वायरस का पता लगने पर मरीज़ों को अलग रखा जाता है, छोटे-छोटे ग्रुप्स में. कोरोना आमतौर पर बच्चों को प्रभावित नहीं करता है. जिन लोगों की उम्र 58 से ज़्यादा होती है, कोरोना का असर ऐसे बुजुर्गों पर ज़्यादा होता है

गांव-देहात में कोरोना वायरस- के फैलने की आशंका कम ही है. ये एक शहरी बीमारी है. हर खांसी, जुकाम कोरोना वायरस नहीं हो सकता है. मौसम बदलने के साथ ही कोरोना पर क़ाबू पाया जा सकता है. कोरोना वायरस का कोई फ़ौरी इलाज नहीं है. अगर आपको कोरोना के लक्षण दिखते हैं तो फ़ौरन डॉक्टर को दिखाएं. चिकन खाने से कोरोना वायरस होने जैसी ब्रातें सच नहीं हैं, भारत से जैसे खाना पकाया जाता है, उससे-किसी वायरस के बचने की संभावना, कम ही है. चिकन या अंडा खाने से कोई दिवक़त नहीं है. गर्मी आने पर कोसेना वायरस कम हो जाएगा. जैसे ही तापमान बढ़ेगा कोरोन वायरस का असर कम हो जाएगा. सरकार ने जहां कोरोना सेंटर बनाए हैं, वहां लक्षण महसूस होने पर दिखाइए. इंडिया में इतने धार्मिक मेले होते हैं, लोगों की भीड़ जुटती है. लेकिन कभी कोई वायरस नहीं फैलता है. अगर कोरोना से बचाव

दिखाइए. इंडिया में इतने धार्मिक मेले होते हैं, लोगों की भीड़ जुटती लेकिन कभी कोई वायरस नहीं फैलता है. अगर कोरोना से बचाव की बात करें तो थ्री-लेयर्ड मास्क होते हैं. दूसरा मास्क N- 51 होता है आम लोग साधारण सर्जिकल मास्क भी पहन लें तो ठीक रहेगा

यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने यार दोस्तों को इस जानकारी के बारे में शेयर करके जरूर बताये है और इस जानकारी को Social Media पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करे धन्यवाद जय हिंदी जय भारत

Hello दोस्तों आज की Post आपको कैसी लगी में उम्मीद करता हूँ की आपको ये Post बहुत पसंद आई होगी तो मिलते है Next पोस्ट मैं अगर को सवाल जबाव हो तो दोस्तों Comment करके बताइये !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here